Why Us

1.अभ्यार्थियों से अपेक्षा की जाती है कि वे नियमित रुप से कक्षाओं में उपस्थित रहें, क्योंकि परीक्षा में  बैठने के लिये 80 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य है।80 प्रतिशत उपस्थिति से कम होने पर प्रशिक्षार्थी को परीक्षा में सम्मिलित नहीं किया जायेगा।

2. जो अभ्यार्थी लगातार 10 दिन तक कक्षा में अनुपस्थित रहता है उसे चेतावनी भेज दी जायेगी । यदि चेतावनी के बाद भी वह   उपस्थित नही होता तो उसका नाम काट दिया जायेगा।

3.सार्वजनिक छुट्टियों के अतिरिक्त वर्ष में अभ्यार्थीयो को 12 दिन का अवकाश दिया जाता है। किन्तु एक समय में 10 दिन से अधिक का अवकाश स्वीकृत नहीं किया जायेगा । बीमारी व चोट के कारण चिकित्सा प्रमाणपत्र पर 15 दिन का अतिरिक्त अवकाश भी स्वीकार किया जा सकता है।

शुल्क

  1. ·        प्रवेश शुल्क एवं मासिक शुल्क प्रत्येक व्यवसाय में समान है जिसे प्रत्येक माह की निर्धारित तिथि पर जमा करना होगा।
  2.  
  3. ·        प्रवेश के समय प्रवेश शुल्क,एक माह का मासिक शुल्क तथा परिचय पत्र शुल्क जमा करना होगा।
  4.  
  5. ·        एक बार शुल्क जमा कराने के पश्चात् किसी भी दशा में न तो शुल्क लौटाया जायेगा और न ही स्थानान्तरित किया जायेगा।

चयन

1.प्रवेश परीक्षा के आधार पर वरीयता क्रमानुसार दिये गये व्यवसाय में चयन किया जायेगा, जिसकी सूची संस्थान के सुचना पट पर लगा दी जायेगी तथा इसकी सूचना डाक द्रारा चयनित अभ्यर्थी को भी भेज दी जायेगी।

2. चयनित अभ्यर्थी को प्रवेश के समय के सभी प्रमाणपत्रों की सत्यापित की गई दो-दो प्रतियां मूल प्रमाण पत्र तथा 04 फोटो व स्थानान्तरण पत्र प्रस्तुत करने होगें।

3.किसी ऐसे प्रवेशार्थी को संस्थान में प्रवेश नहीं दिया जायेगा, जो किसी कालेज संस्थान की परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग करते हुए या प्रयोग करने का प्रयत्न करते हुए पकड़ा गया हो अथवा जिसके विरुद्ध दुवर्यवहार का प्रतिवेदन लिखा गया हो।

4. किसी अभ्यर्थी द्रारा कोई धनराशि जमा किये जाने का अर्थ यह नहीं होगा कि वह संस्थान में प्रवेश या पुन प्रवेश कर चुका है।

5.कोई भी अभ्यर्थी संस्थान का प्रशिक्षार्थी तभी माना जायेगा जब उसका प्रवेश के लिये दिया गया आवेदन पत्र प्रवेश नियमों के अनुसार प्रधानाचार्य द्रारा स्वीकृत हो जाये, तथा वह संस्थान द्रारा निर्धारित शुल्क एंव मांगे गये प्रपत्र जमा कर दे।

6. ऐसा न करने की स्थिति में प्रवेश निरस्त कर दिया जायेगा तथा उसके स्थान पर वरीयता क्रम में आने वाले अगले अभ्यर्थी को प्रवेश दे दिया जायेगा।

 

छात्रवृत्ति

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/ पिछड़ी जाति के अर्ह अभ्यर्थीयों को सरकार की नीति के अन्तर्गत जिला समाज कल्याण अधिकारी द्रारा छात्रवृत्ति प्रदान कराने की कार्यवाही की जायेगी।